दार्जिलिंग कैसे पहुँचे (How to reach Darjeeling)

‘दार्जिलिंग’ शब्द तिब्बती भाषा के दो शब्द ‘दोर्जे‘ और ‘लिंग‘ से मिलकर बना है. ‘दोर्जे‘ का अर्थ होता है ‘ओला‘ या ‘उपल‘ और ‘लिंग‘ का अर्थ होता है ‘स्थान‘| इस तरह दार्जिलिंग का शाब्दिक अर्थ हुआ ‘उपलवृष्टि वाली जगह‘ | अंग्रेजो ने इस हिल स्‍टेशन को अपने मौज-मस्ती और सैरगाह के तौर पर विकसित किया […]

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 3

दार्जिलिंग हेरिटेज वॉक दिनांक 30.05.2018 आज यात्रा का तीसरा दिन है । मैं सुबह 6-7 बजे तक दार्जिलिंग से गंगटोक निकल जाना चाहता था, ताकि वहां पहुंचकर दिन में आसपास के स्थलों को देख सकूँ और थोड़ा समय देकर अपने बजट में होटल की खोज कर सकूं । रात हो जाने के बाद आपके पास […]

दार्जिलिंगऔर सिक्किम यात्रा – भाग 2

पहाड़ियों की रानी दार्जिलिंग की सैर सुबह 4 बजे ब्रह्म मुहूर्त में ही उठकर टाइगर हिल को निकल पड़े । बाहर का तापमान 11° डिग्री सेल्सियस था, शायद रात में अच्छी बारिस हुई थी । गाड़ी हमने होटल से ही बुक करवा रखा था । टाइगर हिल दार्जिलिंग आने वाले पर्यटकों और सैलानीयों के लिये […]

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 1

भागलपुर से दार्जिलिंग यात्रा गर्मियों के छुट्टीयों में घूमने जाने का कार्यक्रम बन रहा था | कहाँ जाए कहाँ नहीं घर में बस यही चर्चा चल रही थी | वैसे अभी लंबा समय था , पर हमारे भागलपुर की बात ही निराली है | कहीं भी जाना हो अगर तीन-चार माह पूर्व में ट्रेनों में […]

यायावर एक ट्रेवलर – Yayavar Ek Traveler

चलते रहते हैं कि चलना है मुसाफिर का नसीब, सोचते रहते हैं किस राह गुज़र के हम हैं ….   लिखना मेरे पुरानी बीमारी थी, जो परिस्तिथियों की बलि चढ़ धीरे-धीरे छूटती चली गई | मैंने 2008 के बाद शायद ही कुछ ढंग का लिखा हो | दुसरी असाध्य रोग जो मुझे है वो है […]