सिक्किम में बर्फ के भैंस की सवारी

दार्जलिंग और सिक्किम यात्रा (2018) – भाग 8 हमारी यह परिवार अन्य लोगों के साथ की गई यात्रा, एक यादगार यात्रा थी. इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ जाएँ, नीचे इस यात्रा से जुड़ी सभी लिंक भी दे रहा हूँ ताकि आपको इसे ढूंढने में परेशानी न हो. दिनांक 31.05.2018 दिन […]

वर्ष 2018 के यात्राओं का लेखा-जोखा

2018 कुछ मामलों में मेरे लिए खास रहा- पुरे परिवार के साथ लंबी यात्रायें, बाइक द्वारा यात्रा कि शुरुआत, यात्रा वृतांत लिखने की शुरुआत, फोटो प्रितियोगिता में विजेता होना और इन सबसे बड़ी बात एक साहसी सोलो महिला यात्री से मुलाकात. वो साहसी और निडर, अध्यात्मिक सोलो यात्री थी मुम्बई, महाराष्ट्र की मिस ज्योति. जो […]

रहस्यमयी “बाबा मन्दिर” का रहस्य

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 7 रहस्यमयी “बाबा मन्दिर” का रहस्य इस  अमर शहीद की आत्मा आज भी करती है देश की रक्षा “पंजाब रेजिमेंट के जवान हरभजनसिंह की आत्मा पिछले 50 सालों से लगातार देश की सीमा की रक्षा कर रही है।” सैनिकों का कहना है की हरभजन सिंह की आत्मा, चीनी सेना की […]

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 6

एक रहस्यमयी मन्दिर की यात्रा   मनभावन दृश्य बाबा हरभजनसिंह मन्दिर से    अब तक आपने पढ़ा “दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा” में हम बाबा हरभजनसिंह मन्दिर तक पहुंचे थे, रास्ते में एक सुखद और आश्चर्यजनक अध्यात्मिक अनुभव भी हुए, जिसके बारे में छंगू झील (Tsomgo Lake) और बाबा हरभजनसिंह मन्दिर पढ़कर जाना जा सकता है। “दार्जिलिंग […]

विक्रमशिला विश्विद्यालय – Vikramshila University- The Forgotten University In Bhagalpur

भागलपुर का परिचय सिल्क सिटी के नाम से जाना जाने वाला भागलपुर, बिहार के बड़े शहरों में से एक प्राचीन शहर है, जो महाभारतकालीन सूतपुत्र कर्ण की नगरी यानि अंग प्रदेश थी | भागलपुर पटना से लगभग 225 किलोमीटर और कोलकता से 475  की दुरी पर रेलवे की लूप लाइन रेलखंड पर स्थित है | […]

दार्जलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 5

छंगू झील (Tsomgo Lake) और बाबा हरभजन सिंह मन्दिर  दिनांक 31.05.2018 सुबह उठकर हमलोग जल्दी-जल्दी नित्य-क्रिया से निवृत होकर छंगू झील (Tsomgo Lake) और बाबा हरभजन सिंह मन्दिर जाने की तैयारी में लग गए | श्रीमतिजी और उनकी बहनजी का सबसे ज्यादा समय बच्चों के मनौव्वल में ही लग रहा था | कोई बिस्तर छोड़ने […]

सिक्किम कैसे पहुँचे (How to reach Gangtok, Sikkim)

सिक्किम: मन मोहते बर्फीले पर्वत सिक्किम भारत के सुन्दरतम जगहों में से एक माना जाता है ।अगर आप अपने जीवनकाल में यहाँ नहीं गए तो आपने कुछ खोया है, इसलिए पृथ्वी से पलायन के पहले एक बार सिक्किम जरूर हो आएं । देश के पूर्वोत्तर भाग में स्थित सिक्किम दक्षिण में पश्चिम बंगाल से घिरा हुआ है […]

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 4

दार्जिलिंग से सिक्किम की यात्रा दिनांक 30.05.2018 आपलोग मेरी सुबह की सैर दार्जिलिंग हेरिटेज वाक तक साथ थे तो चलिये आगे चलें | आज यात्रा का तीसरा दिन है । हमने गंगटोक के लिये गाड़ी 4200 रूपये में होटल से ही आरक्षित करवा रखा था, पर मुझे कल ऐसा लगा कि कहीं होटल वाले हमसे गाड़ी के लिये […]

दार्जिलिंग कैसे पहुँचे (How to reach Darjeeling)

‘दार्जिलिंग’ शब्द तिब्बती भाषा के दो शब्द ‘दोर्जे‘ और ‘लिंग‘ से मिलकर बना है. ‘दोर्जे‘ का अर्थ होता है ‘ओला‘ या ‘उपल‘ और ‘लिंग‘ का अर्थ होता है ‘स्थान‘| इस तरह दार्जिलिंग का शाब्दिक अर्थ हुआ ‘उपलवृष्टि वाली जगह‘ | अंग्रेजो ने इस हिल स्‍टेशन को अपने मौज-मस्ती और सैरगाह के तौर पर विकसित किया […]

दार्जिलिंग और सिक्किम यात्रा – भाग 3

दार्जिलिंग हेरिटेज वॉक दिनांक 30.05.2018 आज यात्रा का तीसरा दिन है । मैं सुबह 6-7 बजे तक दार्जिलिंग से गंगटोक निकल जाना चाहता था, ताकि वहां पहुंचकर दिन में आसपास के स्थलों को देख सकूँ और थोड़ा समय देकर अपने बजट में होटल की खोज कर सकूं । रात हो जाने के बाद आपके पास […]

दार्जिलिंगऔर सिक्किम यात्रा – भाग 2

पहाड़ियों की रानी दार्जिलिंग की सैर सुबह 4 बजे ब्रह्म मुहूर्त में ही उठकर टाइगर हिल को निकल पड़े । बाहर का तापमान 11° डिग्री सेल्सियस था, शायद रात में अच्छी बारिस हुई थी । गाड़ी हमने होटल से ही बुक करवा रखा था । टाइगर हिल दार्जिलिंग आने वाले पर्यटकों और सैलानीयों के लिये […]